Saturday, 31 October 2015

IS THIS THE REASON FOR SPIRALLING OF PRICES OF PULSES & LENTILS?

IS THIS THE REASON FOR SPIRALLING OF PRICES OF PULSES & LENTILS?


The report:
आँखे खोलो इंडियाLike Page
Yesterday at 10:01 ·


अधिक से अधिक शेयर करें !

सत्ता से दूर होने पर काँग्रेस की मनोदशा समझ आती है परन्तु सत्ता दुबारा हाँसिल करने की ललक उसको इतना गिरा देगी कभी सोचा न था, लंबे समय से सत्ता में होने व स्टाकिस्टों (बिचोलियों) से अपने सम्बन्धों का लाभ लेते हुए कान्ग्रेस ने वह खेल रच डाला जिसमे उसने आम-आदमी की भी चिन्ता नहीं की,

अबतक एक लाख बीस हज़ार कुन्तल दालें जब्त की जा चुकी हैं, जिनमे कुछ छोटी-मोटी मछलियाँ फँसी हैं, परन्तु उनसे जिनकी और इशारा जा रहा है वो बड़े मगरमच्छ हैं :- फेडरल एग्रो नागपुर, नन्धी दाल मिल्स तमिलनाडु, अन्ग्लामानन ओवर्सेज़ हस्थिनापुरम तमिलनाडु, मेट्रिक्स एक्सपोर्ट्स नागपुर, JB सुपर फ़ूड दिल्ली, एशियन हेल्थ तमिलनाडु, आदि-आदि ।

जोकि काँग्रेस के ही पिछलग्गू रहे हैं, और उसी के इशारे पर काम करते हैं, जाँचें होती रहती हैं, षड्यंत्रकारी बचते रहते हैं, पर इस बार बात चली है तो दूर तलक जायेगी, मण्डियों से लेकर सोसाटियों तक काँग्रेसी पिछलग्गू ही सक्रीय रहते चले आये हैं, सभी सहकारी समीतियों पर भी इन्ही का कब्ज़ा रहता था, पहले की भाजपा सरकारों ने कभी इसओर ध्यान ही नहीं दिया और यह सिलसिला निरन्तर यूँ ही चलता भी रहा, अब सरकार भी सतर्क है और भाजपा भी, भाजपा की अनुमति से रिक्त पद भरे जा रहे हैं, ना की मन्त्रीजी की मनमर्जी से।

कांग्रेसी जमाखोरों द्वारा बीजेपी शासित प्रदेशों को बदनाम करने खेल खत्म होने को है ! पुरे देश में अभी तक 8,394 छापे डाले गये हैं और राज्यों से 82,462.53 टन दलहन जब्त किये गये हैं। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार अभी तक :महाराष्ट्र से अधि कतम मात्रा में 57,455 टन भंडार जब्त छत्तीसगढ़ में 4,932 टन दलहन जब्त किये मध्य प्रदेश में 2,370 टन, राजस्थान में 3,330 टन ,हरियाणा में 2,189 टन दलहन को जब्त किया खाद्य मंत्राला द्वारा की गयी छापेमारी से दाल की कीमतें 120 रूपये किलो हो गयी । असल में मीडिया, जमाखोर और कांग्रेस का गठजोड़ मोदी सरकार को बदनाम करने की चाल में था । अब कोई भी चैनेल नही बता रहा की दाल की कीमते 120 रूपये क्यों हो गयी ।

मुम्बई बन्दरगाह पर ''तंजानिया से नेफेड'' के द्वारा आयात किया हुआ दाल दो महीने तक पड़ा रहा क्योकि दिल्ली की केजरीवाल सरकार सहित आठ कांग्रेसी राज्यो की सरकारो ने दाल की डिलेवरी लेने से ये कहकर मना कर दिया था की उनके पास दाल का पर्याप्त स्टॉक है । 

View Point

If all that is written in this article is TRUE then I would request the GOI to educate masses by:

  1. Bringing white paper on the issue. We would like to know the facts.
  2. Give all involved in abusing the humanity the exemplary punishment such that no one dares committing the same heinous crime against humanity even in dreams.
  3. All firms involved may be de-registered forever.
  4. Case of SEDITION may be registered for not lifting the stocks from the Mumbai Harbour during crises. 


I also request GOI to release these stocks immediately in markets and ensure that prices fall back to normal level for providing relief to the masses. 

0 comments:

Post a comment