Thursday, 26 January 2017

OUR CURSE

OUR CURSE

[https://s-media-cache-ak0.pinimg.com/736x/29/c4/4c/29c44cfa008740e3c29c418b8c9dc083.jpg]

एक तनख्वाह से कितनी बार टेक्स दूं और क्यों...जबाब है???
मैनें तीस दिन काम किया,
तनख्वाह ली - टैक्स दिया
मोबाइल खरीदा - टैक्स दिया
रिचार्ज किया - टैक्स दिया
डेटा लिया - टैक्स दिया
बिजली ली - टैक्स दिया
घर लिया - टैक्स दिया
TV फ्रीज़ आदि लिये - टैक्स दिया
कार ली - टैक्स दिया
पेट्रोल लिया - टैक्स दिया
सर्विस करवाई - टैक्स दिया
रोड पर चला - टैक्स दिया
टोल पर फिर - टैक्स दिया
लाइसेंस बनाया - टैक्स दिया
गलती की तो - टैक्स दिया
रेस्तरां मे खाया - टैक्स दिया
पार्किंग का - टैक्स दिया
पानी लिया - टैक्स दिया
राशन खरीदा - टैक्स दिया
कपड़े खरीदे - टैक्स दिया
जूते खरीदे - टैक्स दिया
कितबें ली - टैक्स दिया
टॉयलेट गया - टैक्स दिया
दवाई ली तो - टैक्स दिया
गैस ली - टैक्स दिया
सैकड़ों और चीजें ली ओर - टैक्स दिया, कहीं फ़ीस दी, कहीं बिल, कहीं ब्याज दिया, कहीं जुर्माने के नाम पर तो कहीं रिश्वत के नाम पर पैसा देने पड़े, ये सब ड्रामे के बाद गलती से सेविंग मे बचा तो फिर टैक्स दिया----
सारी उम्र काम करने के बाद कोई सोशल सेक्युरिटी नहीं, कोई पेंशन नही (5 साल के MP, MLA रहे तोऔर बात है), कोई मेडिकल सुविधा नहीं, बच्चों के लिये अच्छे स्कूल नहीं, पब्लिक ट्रांस्पोर्ट नहीं, सड़कें खराब, स्ट्रीट लाईट खराब, हवा खराब, पानी खराब, फल सब्जी जहरीली, हॉस्पिटल महंगे, हर साल महंगाई की मार, आकस्मिक खर्चे व् आपदाएं , उसके बाद हर जगह लाइनें।।।।
सारा पैसा गया कहाँ????
करप्शन में ,
इलेक्शन में ,
अमीरों की सब्सिड़ी में ,
माल्या जैसो के भागने में
अमीरों के फर्जी दिवालिया होने में ,
स्विस बैंकों में ,
नेताओं के बंगले और कारों मे,   
और हमें झण्डू बाम बनाने मे।
अब किस को बोलूं कौन चोर है???
आखिर कब तक हमारे देशवासी यूंही घिसटती जिन्दगी जीते रहेंगे?????
मै जितना देश और इस पर चिपके परजीवियों के बारे मे सोचता हूँ, व्यथित हो जाता हूँ।
समय गया है कि किसी की भक्ति से बढ़ कर देश देशवासियों के बारे मे सोचें

RESPONSE TO THE ABOVE EXPRESSION

This will continue:-

As long as we keep electing and tolerating unscrupulous, crooked and corrupt leeches / blood sucker people in position. We are doing it since ages just because we the people of India by and large are very immature, literate but not educated, don’t understand the meaning of self-esteem, shirk work, lack leadership, are greedy and selfish. 

We want things free of cost without doing any effort to earn them. All political parties competing with one another to offer freebies (cycles, laptops, smartphones, ration, mixer-grinders, televisions etc.) to the voters, is the proof of our weaknesses but we don’t have courage to acknowledge. We believe in bribing and taking bribes. 

This is where unscrupulous, crooked and corrupt leeches / blood sucker people start exploiting our weaknesses and start sucking blood for life. Our major weaknesses are falling for reservations in place of affirmative action, caste, religion, greed for getting things free, selfish attitude.

Why blame our INTELLIGENT corrupt politicians and officials when we are to blame ourselves?????


3 comments:

  1. We the people elect the Government and then curse it.
    At the time of electing, we fall for freebies, reservations, etc. and do not look into their performance of the past.

    ReplyDelete
  2. University Undergraduate Scholarship Program 2021-22 for International students. In general, assume a Both scholarship and fellowship for students and researchers, or any individual find and interested candidates are inviting to apply for Scholarship. Scholarships and fellowships are instituted by a University.

    ReplyDelete